Peter Lynch Quotes | पीटर लिंच कोट्स |

 Peter Lynch/पीटर लिंच किस तरीके से Stock selection थे आइए जानते हैं|   पीटर लिंच ने Stock इन्वेस्टमेंट के लिए कंपनी को चुनने के लिए कुछ बातें बताई हैं:-

  1. The trick is not to learn to trust your gut feelings, but rather to discipline yourself to ignore them. Stand by your stocks as long as the fundamental story of the company hasn’t changed.”

चाल अपनी आंत की भावनाओं पर भरोसा करना नहीं सीखना है, बल्कि उन्हें अनदेखा करने के लिए खुद को अनुशासित करना है। जब तक कंपनी की मौलिक कहानी नहीं बदली है, तब तक अपने शेयरों के साथ खड़े रहें।

Explanation- हमें हमेशा कंपनी के फंडामेंटल्स (Fundamental) को सबसे ज्यादा महत्व देना चाहिए| Stock के ऊपर या नीचे जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता | जब तक कंपनी के फंडामेंटल ठीक है और उन में कोई बदलाव नहीं आया है तब तक हमें उस स्टॉक को नहीं बेचना चाहिए चाहे वह ऊपर जाए या  नीचे|

2. Know what you own, and know why you own it

जानें कि आपके पास क्या है, और जानें कि आप इसके स्वामी क्यों हैं|

Explanation-हमें यूं ही किसी भी स्टॉक में इन्वेस्ट नहीं कर देना चाहिए| हमें अच्छे से पता होना चाहिए कि वह कंपनी क्या करती, है कैसी है, और हम उसमें क्यों इन्वेस्ट कर रहे हैं?

3. People who succeed in the stock market also accept periodic losses, setbacks, and unexpected occurrences. Calamitous drops do not scare them out of the game.

शेयर बाजार में सफल होने वाले लोग भी समय-समय पर होने वाले नुकसान, असफलताओं और अप्रत्याशित घटनाओं को स्वीकार करते हैं। विपत्तिपूर्ण बूंदें उन्हें खेल से बाहर नहीं डराती हैं।

Explanation- शेयर मार्केट में अक्सर लोगों को नुकसान झेलना पड़ जाता है, पर इसका मतलब यह नहीं कि हम इस खेल से ही बाहर हो  जाएं|

4. Whenever you invest in any company, you’re looking for its market cap to rise. This can’t happen unless buyers are paying higher prices for the shares, making your investment more valuable.

जब भी आप किसी कंपनी में निवेश करते हैं, तो आप उसके मार्केट कैप में वृद्धि की तलाश में रहते हैं। यह तब तक नहीं हो सकता जब तक खरीदार शेयरों के लिए अधिक कीमत का भुगतान नहीं कर रहे हों, जिससे आपका निवेश अधिक मूल्यवान हो।

Explanation- हम जब भी किसी  शेयर में इन्वेस्ट करते हैं, तो चाहते हैं कि उसका मार्केट केपीटलाइजेशन (Market Capitalization) बड़े| ऐसा तभी हो सकता है जब कोई दूसरा उस  शेयर को उससे ज्यादा के दाम पर खरीदने को तैयार  हो|

5. Moderately fast growers (20 to 25 percent) in nongrowth industries are ideal investments. • Look for companies with niches. • When purchasing depressed stocks in troubled companies, seek out the ones with the superior financial positions and avoid the ones with loads of bank debt. • Companies that have no debt can’t go bankrupt. • Managerial ability may be important, but it’s quite difficult to assess. Base your purchases on the company’s prospects, not on the president’s resume or speaking ability. • A lot of money can be made when a troubled company turns around. • Carefully consider the price-earnings ratio. If the stock is grossly overpriced, even if everything else goes right, you won’t make any money. • Find a story line to follow as a way of monitoring a company’s progress. • Look for companies that consistently buy back their own shares.

गैर-विकासशील उद्योगों में मध्यम तेजी से बढ़ने वाले (20 से 25 प्रतिशत) आदर्श निवेश हैं। • निचे वाली कंपनियों की तलाश करें। • संकटग्रस्त कंपनियों में उदास स्टॉक खरीदते समय, बेहतर वित्तीय स्थिति वाले शेयरों की तलाश करें और बैंक ऋण के भार वाले लोगों से बचें। • जिन कंपनियों पर कोई कर्ज नहीं है, वे दिवालिया नहीं हो सकतीं। • प्रबंधकीय क्षमता महत्वपूर्ण हो सकती है, लेकिन इसका आकलन करना काफी कठिन है। अपनी खरीदारी को कंपनी की संभावनाओं पर आधारित करें, न कि राष्ट्रपति के रिज्यूमे या बोलने की क्षमता पर। • जब कोई परेशान कंपनी पलटती है तो बहुत सारा पैसा कमाया जा सकता है। • P/E Ratio पर ध्यान से विचार करें। यदि स्टॉक की कीमत बहुत अधिक है, भले ही बाकी सब ठीक हो जाए, तो आप कोई पैसा नहीं कमाएंगे। • कंपनी की प्रगति की निगरानी के तरीके के रूप में अनुसरण करने के लिए एक कहानी खोजें। • उन कंपनियों की तलाश करें जो लगातार अपने शेयर वापस खरीदती हैं।

Explanation- जब भी हम किसी कंपनी में इन्वेस्ट करते हैं, तो जो कंपनियां साल दर साल 20 से 25% की दर से बढ़ रही है, ऐसी कंपनियां निवेश के लिए सबसे अच्छी हैं| ऐसी कंपनियों को चुने जो किसी Niche पर काम करती  हो|  यदि कोई कंपनी संकट में हो, तो हमें ऐसी कंपनियां चुन्नी चाहिए जो कर्जा मुक्त (Debt Free) हो और उनके फाइनेंशियल्स अच्छे होने चाहिए| कर्जा मुक्त कंपनियां कभी भी Bankrupt नहीं होती| हो सकता है कि कंपनी की मैनेजमेंट बहुत अच्छी हो मगर उसका आकलन करना बहुत ही मुश्किल है| हमें कंपनी को उसके ग्रोथ प्रोस्पेक्ट्स (Growth prospects) के हिसाब से चुनना चाहिए| यदि उस कंपनी के ग्रोथ प्रोस्पेक्ट्स अच्छे हैं तो हम उस में निवेश कर सकते हैं| अच्छी कंपनियां जो संकट में है ,उनका टर्न अराउंड (Turn Around) हमेशा अच्छा पैसा बना कर देता है| हमें स्टॉक खरीदते समय P/E ratio पर खासा ध्यान देना चाहिए| अगर कंपनी ओवरप्राइजेड (Over Priced) है, सब कुछ सही होने के बाद भी हम पैसा नहीं कमा पाएंगे| हमें कंपनी की  प्रगति पर विश्वास होना चाहिए| ऐसी कंपनियों को खरीदे जो अपने Shares का Buy Back कर रही हो | Buy Back का मतलब है कि कंपनी को अपने बिजनेस मॉडल पर पूरा भरोसा है और उन में आगे बढ़ने की संपूर्ण क्षमता है |

6. Big companies have small moves, small companies have big moves.

बड़ी कंपनियों की छोटी चाल होती है, छोटी कंपनियों की बड़ी चाल होती है।

Explanation- बड़ी कंपनियों अक्सर छोटी चाल चलती है और छोटी कंपनियां बड़ी जान सकती  है|  कहने का मतलब है कि बड़ी कंपनियों का शेयर प्राइस साल भर में थोड़ा सा भी बढ़ता है,  जबकि वही छोटी कंपनियों का जब बढ़ता है तो काफी ज्यादा शेयर प्राइस बढ़ जाता है| इसका यह मतलब है कि बड़ी कंपनियां छोटी ग्रोथ दिखाती है वही छोटी कंपनी काफी बड़ी ग्रोथ दिखा पाती है|

7. If you can follow only one bit of data, follow the earnings—assuming the company in question has earnings. As you’ll see in this text, I subscribe to the crusty notion that sooner or later earnings make or break an investment in equities. What the stock price does today, tomorrow, or next week is only a distraction.

यदि आप केवल एक बिट डेटा का पालन कर सकते हैं, तो कमाई का पालन करें- यह मानते हुए कि कंपनी के पास कमाई है। जैसा कि आप इस पाठ में देखेंगे, मैं इस कठोर धारणा की सदस्यता लेता हूं कि जल्दी या बाद में कमाई इक्विटी में निवेश करती है या तोड़ती है। आज, कल या अगले सप्ताह शेयर की कीमत क्या करती है, यह केवल एक व्याकुलता है।

Explanation- यदि हमें किसी एक चीज पर ही ध्यान देना है तो हमें कंपनी की Earnings पर देना चाहिए| अगर कंपनी की Earnings अच्छी है तो आज नहीं तो कल कंपनी अपने निवेशक को फायदा दिलाने में सक्षम है|  शेयर प्राइस का ऊपर नीचे जाना सिर्फ एक तरह के का Distraction  है |

8. Peter Lynch doesn’t advise you to buy stock in your favorite store just because you like shopping in the store, nor should you buy stock in a manufacturer because it makes your favorite product or a restaurant because you like the food. Liking a store, a product, or a restaurant is a good reason to get interested in a company and put it on your research list, but it’s not enough of a reason to own the stock! Never invest in any company before you’ve done the homework on the company’s earnings prospects, financial condition, competitive position, plans for expansion, and so forth.

पीटर लिंच आपको अपने पसंदीदा स्टोर में स्टॉक खरीदने की सलाह सिर्फ इसलिए नहीं देता क्योंकि आप स्टोर में खरीदारी करना पसंद करते हैं, और न ही आपको किसी निर्माता में स्टॉक खरीदना चाहिए क्योंकि यह आपका पसंदीदा उत्पाद या रेस्तरां बनाता है क्योंकि आपको खाना पसंद है। किसी स्टोर, उत्पाद या रेस्तरां को पसंद करना किसी कंपनी में दिलचस्पी लेने और उसे अपनी शोध सूची में डालने का एक अच्छा कारण है, लेकिन यह स्टॉक के मालिक होने का पर्याप्त कारण नहीं है! कंपनी की कमाई की संभावनाओं, वित्तीय स्थिति, प्रतिस्पर्धी स्थिति, विस्तार की योजनाओं आदि पर होमवर्क करने से पहले कभी भी किसी भी कंपनी में निवेश न करें।

Explanation- पीटर लिंच कहते हैं कि हमें किसी कंपनी का शेयर इसलिए नहीं खरीदना चाहिए क्योंकि हमें  उसका Store पसंद है,  या फिर कंपनी कोई  उत्पाद (Product) हमें पसंद है,  या हमें किसी रेस्टोरेंट का खाना बहुत पसंद है| इन सब कारणों से हमें कंपनी में रुचि पैदा हो सकती है, परंतु किसी कंपनी का मालिक बनने के लिए यह कारण काफी नहीं है| किसी भी कंपनी में इन्वेस्ट करने से पहले हमें अच्छे से रिसर्च (Research) करनी चाहिए,  उसके फाइनैंशल (Financials)  समझने चाहिए, कंपीटीटर्स(Competitors), उसके ग्रोथ प्लान (Growth Prospects) इन सभी पर अच्छे से ध्यान देने के बाद ही हमें उस कंपनी में इन्वेस्ट करने का फैसला लेना  चाहिए|

9. Look for small companies that are already profitable and have proven that their concept can be replicated. • Be suspicious of companies with growth rates of 50 to 100 percent a year.

छोटी कंपनियों की तलाश करें जो पहले से ही लाभदायक हैं और साबित कर चुकी हैं कि उनकी अवधारणा को दोहराया जा सकता है। • सालाना 50 से 100 प्रतिशत की वृद्धि दर वाली कंपनियों पर संदेह करें।

Explanation- हमें उन छोटी कंपनियों में इन्वेस्ट करना चाहिए जो अपना दमखम साबित कर चुकी है| यह कंपनियां लाभदायक है, और अगर इनका बिजनेस मॉडल दोहराया जाए तो वह भी लाभदायक होगा| ऐसी कंपनियों से दूर रहना चाहिए जो एक ही साल में 50 से 100% के दर का ग्रोथ दिखा रही हो|

10. If you find a stock with little or no institutional ownership, you’ve found a potential winner. Find a company that no analyst has ever visited, or that no analyst would admit to knowing about, and you’ve got a double winner. When I talk to a company that tells me the last analyst showed up three years ago, I can hardly contain my enthusiasm. It frequently happens with banks, savings-and-loans, and insurance companies, since there are thousands of these and Wall Street only keeps up with fifty to one hundred.

यदि आपको कम या बिना संस्थागत स्वामित्व वाला स्टॉक मिलता है, तो आपको एक संभावित विजेता मिल गया है। ऐसी कंपनी खोजें, जिसे कोई विश्लेषक कभी नहीं गया हो, या जिसके बारे में जानने के लिए कोई भी विश्लेषक स्वीकार नहीं करेगा, और आपको दोहरा विजेता मिला है। जब मैं एक कंपनी से बात करता हूं जो मुझे बताती है कि आखिरी विश्लेषक तीन साल पहले आया था, तो मैं शायद ही अपने उत्साह को रोक सकता हूं। यह अक्सर बैंकों, बचत-और-ऋणों और बीमा कंपनियों के साथ होता है, क्योंकि इनमें से हजारों हैं और वॉल स्ट्रीट केवल पचास से एक सौ के साथ ही रहता है।

Explanation- ऐसी कंपनियां जिन्हें Institutions  और analyst  नहीं जानते,  मल्टीबैगर(Multibagger)  साबित हो सकती है|

11. Stick with a steady and consistent performer

एक स्थिर और लगातार प्रदर्शन करने वाले के साथ बने रहें

Explanation- फिर और लगातार प्रदर्शन करने वाली कंपनियों के साथ बने रहे| ऐसी कंपनियां जो हर साल 20- 30% का CAGR  दिखाती हैं उनमें लंबे समय के लिए निवेश करने से अच्छा पैसा बनाया जा सकता है |

12. There are five basic ways a company can increase earnings*: reduce costs; raise prices; expand into new markets; sell more of its product in the old markets; or revitalize, close, or otherwise dispose of a losing operation.

कंपनी कमाई बढ़ाने के पांच बुनियादी तरीके हैं*: लागत कम करना; कीमतें बढ़ाएं; नए बाजारों में विस्तार; अपने उत्पाद को पुराने बाजारों में अधिक बेचें; या खोने वाले ऑपरेशन को पुनर्जीवित करना, बंद करना या अन्यथा निपटाना।

Explanation- कंपनी 5 तरीकों से अपनी आय बढ़ा सकती है:-

  1.  लागत कम करके
  2.  प्राइस बढ़ाकर
  3. नए बाजारों मैं अपने उत्पाद बेचकर
  4.  पुराने बाजारों में ज्यादा नए उत्पाद बेचकर
  5. नए नए उत्पाद बाजारों में लाकर

13. Company and for similar companies in the same industry. • The percentage of institutional ownership. The lower the better. • Whether insiders are buying and whether the company itself is buying back its own shares. Both are positive signs. • The record of earnings growth to date and whether the earnings are sporadic or consistent. (The only category where earnings may not be important is in the asset play.) • Whether the company has a strong balance sheet or a weak balance sheet (debt-to-equity ratio) and how it’s rated for financial strength. • The cash position.

कंपनी और एक ही उद्योग में समान कंपनियों के लिए। • संस्थागत स्वामित्व का प्रतिशत। जितना कम उतना अच्छा। • क्या अंदरूनी लोग खरीद रहे हैं और क्या कंपनी खुद अपने शेयर वापस खरीद रही है। दोनों सकारात्मक संकेत हैं। • अब तक की आय में वृद्धि का रिकॉर्ड और आय छिटपुट या सुसंगत है या नहीं। (एकमात्र श्रेणी जहां कमाई महत्वपूर्ण नहीं हो सकती है, वह है एसेट प्ले।) • कंपनी की बैलेंस शीट मजबूत है या कमजोर बैलेंस शीट (डेट-टू-इक्विटी अनुपात) और वित्तीय मजबूती के लिए इसे कैसे रेट किया गया है। • नकदी की स्थिति।

Explanation- अगर हम एक ही सेक्टर की दो कंपनियों को कंपेयर करते हैं तो हमें इन बातों पर ध्यान देना चाहिए:-

  1.  FII और DII  होल्डिंग जितनी  कम हो उतना अच्छा
  2. कंपनी अ
  3. पने  शेयर Buy Back  कर रही हो
  4. कंपनी की Earning लगातार हो रही है या ,कभी होती है और कभी नहीं होती
  5. कंपनी के Assets पर ध्यान दें
  6. कंपनी की बैलेंस शीट कितनी मजबूत है
  7.  कंपनी पर कर्जा है या नहीं
  8.  और कंपनी का Cash , Cash Flow.

इन मल्टीबैगर स्टॉक्स के बारे में जानने के लिए पढ़ें

Lux Industries

Vaibhav Global

Zomato

Gland Pharma

Zerodha

Use the link to open a Demat account in Zerodha

Books on Investing

Rich Dad Poor Dad: What the Rich Teach Their Kids About Money That the Poor and Middle Class Do Not!

Rich Dad Poor Dad: What the Rich Teach Their Kids About Money That the Poor and Middle Class Do Not!

Learn to Earn: A Beginner's Guide to the Basics of Investing and Business

Learn to Earn: A Beginner’s Guide to the Basics of Investing and Business

one wall up wall street

One Up On Wall Street: How to Use What You Already Know to Make Money in the Market

The intelligent Investor

The Intelligent Investor

Disclaimer- All investments and trading in the stock market involve risk. Any decision to place a trade in the financial markets, including trading in stock should only be made after thorough research. Trading strategies or related information mentioned in the article is for informational purposes only. Use your due diligence before investing.

शेयर बाजार में पैसे लगाना रिस्की होता है. इसमें रिटर्न मिलने की कोई गारंटी नहीं होती है. ऊपर बताए गए स्टॉक्स सिर्फ जानकारी प्रदान करने के लिए हैं. इन्हें निवेश के लिए सुझाव नहीं समझा जाना चाहिए. स्टॉक मार्केट में पैसे लगाने से पहले आप खुद से रिसर्च जरूर करें या अपने पर्सनल फाइनेंस एडवाइजर की सलाह लें .खासकर पेनी स्टॉक्स में पैसे लगाने से पहले अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत होती है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *